Wednesday, March 17, 2010

अजनबी

जब किसी अजनबी से मिलता हूँ तो लगता है कोई अपना मिला
जब कोई अपना मिलता है तो लगता है कोई अजनबी मिला

अजनबी में चाहत होती है घुलने मिलने की, अपना बना लेने की
अपने में फ़ितरत होती है दूर जाने की, अजनबी बनने की

अजनबी के साथ सफ़र आराम से हंसते हुए सफ़र कट जाता है
अपने के साथ सफ़र कटता ही नही, और लंबा हो जाता है

काश ऐसा हो कि हम तुम अजनबी हो जाए
अपने ना बने अजनबी बन जाए
Post a Comment

जगमग

दिये जलें जगमग दूर करें अंधियारा अमावस की रात बने पूनम रात यह भव्य दिवस देता खुशियां अनेक सबको होता इंतजार ...