Monday, June 21, 2010

बोझ

सुबह है तैयारी का बोझ।
दिन में है काम का बोझ।
शाम को है तेरे इंतज़ार का बोझ।
रात में है ग़म का बोझ।
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...