Saturday, January 22, 2011

कबीर वाणी

Kabir says that you are searching for God without proper thinking and knowledge.
He is there within you.
You are yet to discover him.


कबीरा ज्ञान विचार बिन
हरी ढूंढन को जाए
तन में त्रिलोकी बसे
अब तक परखा नाए

Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...