Friday, February 04, 2011

सुख दुख

Fair whether friends share our joys but avoid us when we face difficulties.
However, a true friend will stay by our side during both good times and bad.


सुख के संगी स्वार्थी
दुख में रहते दूर
कहे कबीर परमार्थी
दुख सुख सदा हुजूर

Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...