Friday, February 04, 2011

सुख दुख

Fair whether friends share our joys but avoid us when we face difficulties.
However, a true friend will stay by our side during both good times and bad.


सुख के संगी स्वार्थी
दुख में रहते दूर
कहे कबीर परमार्थी
दुख सुख सदा हुजूर

Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...