Saturday, February 05, 2011

धीरे धीरे

Slowly, slowly O mind, everything will happen at its own pace and at the right time.
A gardener may water his plants a hundred times, but fruit will arrive only in it season.


धीरे धीरे रे मना
धीरे सब कुछ होए
माली सीचे सौ धडा
त्रृतु आए फल होए

Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...