Sunday, February 13, 2011

सांई

O God, provide me with so much, that it should suffice for my clan.
I should not be left wanting, and neither should my guests go united.


सांई इतना दीजिए
जा में कुटुम्ब समाए
मैं भी भूखा न रहूं
साधू न भूखा जाए

Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...