Sunday, February 13, 2011

सांई

O God, provide me with so much, that it should suffice for my clan.
I should not be left wanting, and neither should my guests go united.


सांई इतना दीजिए
जा में कुटुम्ब समाए
मैं भी भूखा न रहूं
साधू न भूखा जाए

Post a Comment

जगमग

दिये जलें जगमग दूर करें अंधियारा अमावस की रात बने पूनम रात यह भव्य दिवस देता खुशियां अनेक सबको होता इंतजार ...