Wednesday, February 23, 2011

घरती

The earth bears the digging.
The forest bears the axe.
Only a person who is good can bear harsh words.
Others cannot bear them.


खोद खाद घरती सहे
काट कूट वनराय
कुटिल वचन साधु सहे.
और से सहा न जाए

Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...