Wednesday, March 02, 2011

आईना

कहते  हैं कि आईना झूठ नहीं बोलता
बोलता नही चुपचाप सच बताता है
पर हम सच मानने को तैयार नही
मुंह फेर लेते हैं सच झुठला देते हैं

नए जमाने के तौर तरीके नही जानता है
कुछ नया नही पुरानी चीजें दिखाता है
पुते चेहरों झूठी तारीफों पर हम इठलाते हैं

फेंक दो कम्बख्त को कहता है हम पुराने हो गए हैं
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...