Friday, December 16, 2011

मंहगाई दर

मंहगाई दर के आंकडे घोषित हुए। कहते हें कि चार साल के रिकार्ड निचले स्तर पर मंहगाई दर है, वो भी सिर्फ 4.29 प्रतिशत। रिटेल में तो दूध, घी, दालों, अनाज, आटा के रेट तो पुराने रिकार्ड स्तर पर हैं। सरकार मालूम नही, क्यों अपनी पीठ खुद धपधपा रही है। जनता सोचती है, यह मंहगाई दर और आंकडे किस चिडिया का नाम है, कि वह फुर से उड जाती है और आम जनता परेशान रहती है। कम से कम रिटेल में तो मंहगाई कोई कम करे।
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...