Sunday, January 01, 2012

Mind मन


A mind is like a bird, it goes where it likes. The results one gets is for the company he keeps.

कबीरा मन पंछी भया
भावे तहा आ जाय
जो जैसी संगत करे
सो तैसा फल पाय
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...