Thursday, March 08, 2012

तुम आऔ तो सही


तुम आऔ तो सही
तुम्हे गले लगा लूंगा
तुम आऔ तो सही
सभी पुरानी बातें भुला दूंगा
तुम आऔ तो सही
वो शिक्वे, वो शिकायते भुला दूंगा
तुम आऔ तो सही
नफरत भुला दूंगा
तुम आऔ तो सही
तुम्हे प्यार दूंगा
तुम आऔ तो सही
फिर आ गया फागुन का महीना
तुम आऔ तो सही
भीनी भीनी सर्दी का महीना
तुम आऔ तो सही
रंगो का महीना, उल्लास का महीना
तुम आऔ तो सही
पुरानी बातों को होली की अग्नि में जला दूंगा
तुम आऔ तो सही
एक नई जिन्दगी की शुरूआत करेंगें
तुम आऔ तो सही
रंगों में भीग जाएगें
तुम आऔ तो सही
गले मिल जाएगें
तुम आऔ तो सही 
Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...