Tuesday, November 13, 2012

दिवाली


  1. रोशनी ही रोशनी हर तरफ
    जैसे एक समन्दर हो खुशी का
    यादें हर खुशनुमा लहमे की
    और आशा उजले दिनों की
    लो आ गया रोशनी का त्योहार
    खुशियों की दिवाली
Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...