Sunday, September 01, 2013

बोलते


सोचते सोचते कैमरा उठा लेता हूं
मुस्कुराते चेहरे कभी कभी मिलते हैं।

सोचते सोचते सोचता हूं, कि लोग नाम पा कर
हैसियत से अधिक बोलते है।

सोचते सोचते सोचता हूं, कि उम्र हो गई है
अब तो बच्चे पलट कर बोलते हैं।

सोचते सोचते सोचता हूं, कि घर के अंदर नही बोल पाता
इसीलिए बाहर बोलता हूं।

सोचते सोचते सोचता हूं
सोचने में सुकून मिलता है।

सोचते सोचते पुरानी इमारतों में घूमने चला आया

देखा तो पत्थर भी बोलते हैं।
Post a Comment

विवाह उपरांत पढ़ाई

अनुप्रिया पढ़ने में होशियार थी। हर वर्ष स्कूल में प्रथम स्थान पर रहती थी। पढ़ाई के प्रति उसकी लगन कॉलेज में भी कम नही हुई। उसकी इच्छा दिल्ल...