Thursday, September 26, 2013

उम्मीद

किसी पर उम्मीद छोड कर देखो
जिन्दगी कितनी आसान है

अपने पर उम्मीद रख कर देखो
जिन्दगी कितनी आसान है

अपनी उम्मीद पर हौसला रख कर देखो

जिन्दगी कितनी आसान है
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...