Friday, October 11, 2013

मायूसी

मायूसी

सोचा था मेले में आनन्द मिलेगा ।
मगर धक्कों से मायूसी मिली ।।

तमाम शहर में पता पूछ कर जब उसके घर पहुंचा ।

वो तब तक वहां से कूच कर चुका था ।।
Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...