Friday, October 11, 2013

बनना

बनना

कभी मैं कमरे की दीवारों को देखना चाहता हूं ।
क्या रंग मेरे व्यक्तित्व से मेल खाता है ।।

कभी मैं कमरे मैं बंद होकर जीवन का अवलोकन करना चाहता हूं

क्या मैं वह बन सका जो मैं बनना चाहता हूं ।।
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...