Friday, October 11, 2013

सन्नाटा

सन्नाटा


तुम नही तो रात में सन्नाटा चला आता है
तुम हो तो रात से सन्नाटा चला जाता है।
तुम नही तो सन्नाटे से दिल घबराता है
तुम हो तो सन्नाटे में दिल बहल जाता है।
सन्नाटे से लड लेता हूँ, जमाने से लड लेता हूँ
तुम पास हो तो सब काम कर लेता हूँ।
आ जाओ आ जाओ अब तो वापस आ जाओ।
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...