Friday, October 11, 2013

सन्नाटा

सन्नाटा


तुम नही तो रात में सन्नाटा चला आता है
तुम हो तो रात से सन्नाटा चला जाता है।
तुम नही तो सन्नाटे से दिल घबराता है
तुम हो तो सन्नाटे में दिल बहल जाता है।
सन्नाटे से लड लेता हूँ, जमाने से लड लेता हूँ
तुम पास हो तो सब काम कर लेता हूँ।
आ जाओ आ जाओ अब तो वापस आ जाओ।
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...