Friday, October 11, 2013

पत्थर


न पहनो पत्थर उंगलियों में
तुन खुद पत्थर बन जाओगे
न पहनो पत्थर उंगलियों में
रिश्ते नाते पत्थर बन जाएंगे
न पहनो पत्थर उंगलियों में
मानसिक रोगी बन जाओगे
न पहनो पत्थर उंगलियों में
पत्थर पर निर्भर हो जाओगे
न पहनो पत्थर उंगलियो में
नींद न आएगी पत्थरों से
उतार फेंको इन पत्थरों को
कर्म करो कर्मयोगी बनो
फल मिलेगा कर्म से
अमर बनोगे कर्म से
पत्थरों से न प्यार करो
पत्थरों में क्या रखा है
करों विश्वास ईश्वर पर
झूठे मंत्रो में क्या रखा है







Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...