Sunday, December 15, 2013

दिल दीदार हो गया

मिले सतगुरू जी बेडा पार हो गया, कबसे आस लगी दिल दीदार हो गया।
कीती कृपा गुरूआं ने ऐ संयोग मिलिया, साडा मुद्दतांदा अज सारा रोग टलिया।
जदों पाया दर्श बेडा पार हो गया, मिले सत्तगुरू जी बेडा पार हो गया।
मिले सतगुरू जी बेडा पार हो गया, कबसे आस लगी दिल दीदार हो गया।

दुख जन्मा जन्मा दे पावंदे हां, मन मति दियां ठोकरा खावदें हां।
सत्तगुरू तो पाया उपकार हो गया, मिले सत्तगुरू जी बेडा पार हो गया।
मिले सतगुरू जी बेडा पार हो गया, कबसे आस लगी दिल दीदार हो गया।

मिल सेवक गुरूआं नूं खुशहाल होदें ने, दे दे फिरन वधाईआं ते निहाल होदें ने।
अज सेवक ते सत्तगुरू दयाल हो गये, मिले सत्तगुरू जी बेडा पार हो गया।
मिले सतगुरू जी बेडा पार हो गया, कबसे आस लगी दिल दीदार हो गया।

दासन दास एवें गुरूआंतो बलिहार जाईये, सच्ची लिव गुरू चरणादे नाल लाईये।
फिर जन्म सफल विच संस्कार हो गया, मिले सत्तगुरू जी बेडा पार हो गया।

मिले सतगुरू जी बेडा पार हो गया, कबसे आस लगी दिल दीदार हो गया।

(परंपरागत भजन)
Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...