Saturday, December 14, 2013

शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे

शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे,
शाम ने लित्ता है अवतार नी वधाई होवे।

पहली वधाई यशोदा मैया नूं होवे,
जैंदी गोदी विच आया सूडा लाल,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

दूझी वधाई नन्द बाबा नूं होवे,
जिन्हादा वध्या है परिवार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

तीजी वधाई सारी सखियां नू होवे,
जिन्हा ने गाया मंगला चार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

चौथी वधाई सतगुरूआं नू होवे,
जिन्हा दी कृपा होई अपार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

देवता सारे फुल वरसावन,
बोलन जय जय कार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

सारी वधाई सारी संगत नूं होवे,
जिन्हा दा शाम नाल हे प्यार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे,

शाम ने लित्ता है अवतार नी वधाई होवे।

(परंपरागत भजन)



Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...