Saturday, December 14, 2013

शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे

शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे,
शाम ने लित्ता है अवतार नी वधाई होवे।

पहली वधाई यशोदा मैया नूं होवे,
जैंदी गोदी विच आया सूडा लाल,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

दूझी वधाई नन्द बाबा नूं होवे,
जिन्हादा वध्या है परिवार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

तीजी वधाई सारी सखियां नू होवे,
जिन्हा ने गाया मंगला चार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

चौथी वधाई सतगुरूआं नू होवे,
जिन्हा दी कृपा होई अपार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

देवता सारे फुल वरसावन,
बोलन जय जय कार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे।

सारी वधाई सारी संगत नूं होवे,
जिन्हा दा शाम नाल हे प्यार नी वधाई होवे,
शाम दी बोलो जय जय कार नी वधाई होवे,

शाम ने लित्ता है अवतार नी वधाई होवे।

(परंपरागत भजन)



Post a Comment

विवाह उपरांत पढ़ाई

अनुप्रिया पढ़ने में होशियार थी। हर वर्ष स्कूल में प्रथम स्थान पर रहती थी। पढ़ाई के प्रति उसकी लगन कॉलेज में भी कम नही हुई। उसकी इच्छा दिल्ल...