Wednesday, December 25, 2013

जब से तेरा नाम लिया है


जब से दाता मैंने तेरा नाम लिया है, धीरे धीरे मेरा हर काम हुआ है।
मेरा हर काम हुआ है, जब से तेरा नाम लिया है।।

कौन करे इतना किसी के लिए, इतना कर दिया तूने मेरे लिए।
मेरी हर खुशी का इन्तजाम किया है, मेरा हर काम हुआ है, जब से तेरा नाम लिया है।।

जिन्दगी में दाता बडे दुख पाये हैं, और फिर हम आपकी शरण में आए हैं।
मिट गई तकलीफ अब आराम मिला है, मेरा हर काम हुआ है, जब से तेरा नाम लिया है।।

ये तो बडा सच्चा सौदा जी श्याम, बस नाम लेने से बन जाते काम।
दाता मैंने सुख का सौदा जान लिया है, मेरा हर काम हुआ है, जब से तेरा नाम लिया है।।

जब से दाता मैने तेरा नाम लिया है, धीरे धीरे मेरा हर काम हुआ है।

मेरा हर काम हुआ है, जब से तेरा नाम लिया है।।

(परंपरागत भजन)
Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...