Friday, January 03, 2014

मौज फकीरां दी

वाह वाह भई मौज फकीरां दी,
वाह वाह भई मौज फकीरां दी।

कभी तो खाऐ चने का दाना,
और कभी लपटे लेवे खीरां दी।
वाह वाह भई मौज फकीरां दी।

कभी तो ओढे शाल दुशाला,
और कभी लंगोटी लीरां दी।
वाह वाह भई मौज फकीरां दी।

मांग मांग कर भिक्षा पावे
और चलदे चाल अमीरां दी।
वाह वाह भई मौज फकीरां दी।

मौज न तेरी मौज न मेरी
मौज तां दास गुरूआं दी।

वाह वाह भई मौज फकीरां दी।

(परंपरागत भजन)
Post a Comment

मदर्स वैक्स म्यूजियम

दफ्तर के कार्य से अक्सर कोलकता जाता रहता हूं। दफ्तर के सहयोगी ने मदर्स वैक्स म्यूजियम की तारीफ करके थोड़ा समय न...