Sunday, January 05, 2014

आपका ही नाम बार बार

ऐ मेरे सदगुरू प्रणाम बार बार, होंठों पर हो आपका ही नाम बार बार।।

चरणों में हो मन सदा, चरण में हो मंजिल सदा, हे दयालु भक्ति का दे दान।
मेरे दाता आपने क्या नही दिया हमें, धन्य धन्य आपको प्रणाम बार बार।
ऐ मेरे सदगुरू प्रणाम बार बार, होंठों पर हो आपका ही नाम बार बार।।

सोये जग को फिर जगाने, आये हो गुरूवर सदा, भक्ति में मन को लगाना नाथ।
बार बार हो जन्म, हर जन्म में आप हम, यू ही हम को देना आप ज्ञान बार बार।
ऐ मेरे सदगुरू प्रणाम बार बार, होंठों पर हो आपका ही नाम बार बार।।

चांदनी का दीप ले कर, थाल फूलों से सजा, आरती हम आपकी करे रोज।

ऐ मेरे सदगुरू प्रणाम बार बार, होंठों पर हो आपका ही नाम बार बार।।

(परंपारगत भजन)
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...