Saturday, March 08, 2014

अनुवाद

सोम शंकर कोल्लूरि को मेरी कहानी ब्लू टरबन का तेलुगु में अनुवाद करने के लिए धन्यवाद। कहानी का लिंक है


I thanks Kolluri Soma Sankar for translating my story “Blue Turban” in Telugu.

Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...