Sunday, April 13, 2014

लिखन वालया


लिखन वालया तूं होके दयाल लिख दे।
साढे दिल विच गुरूआं दा प्यार लिख दे।।

मत्थेते लिख दे ज्योति गुरूआं दी,
मेरे नैना विच गुरूआं दा दीदार लिख दे,
साढे दिल विच गुरूआं दा प्यार लिख दे।।

कन्ना विच लिख दे शब्द गुरूआं दा,
मेरी जिव्वां उत्ते कृष्ण मुरार लिख दे,
साढे दिल विच गुरूआं दा प्यार लिख दे।।

हत्था उत्ते लिख दे सेवा गुरूआं दी,
सेवक बनके गुरूआं दा  सेवादार लिख दे,
साढे दिल विच गुरूआं दा प्यार लिख दे।।

इक ना लिखी मेरे गुरूआं दा बिछोडा,
होर चाहे देखडे हजार लिख दे,
साढे दिल विच गुरूआं दा प्यार लिख दे।।

लिखन वालया तूं होके दयाल लिख दे।

साढे दिल विच गुरूआं दा प्यार लिख दे।।

(परंपरागत भजन)
Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...