Tuesday, April 08, 2014

सखि शाम


सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता,
हर वेले दिल घबरावे ऐसा मस्ताना कीता।
मैं कींवे घरू निकल के मोहन दा दर्शन पावां,
घरवाले मैंनू रोकण मैं केहडे बहाने आवां,
जमना तो जल भर लेयावां मैं इअस बहाने कीता
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।।

चुक घडा सिरते टुर पई जमना वल,
कित्थे मिल जावे मोहन प्यारा अंखियां दा तारा.
बिन दर्शन घर नही जाणा मैं इयो प्रण कर लित्ता,
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।।

नी मैं शाम दे दर्शन खातिर जमना ते लाया डेरा,
मैं खडी अवाजा मारा श्याम घडा चुक दे मेरा,
मेरे दिल दी तार खडक गई मैं अन्दरों दर्शन कीता,
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।।

भर घडा मैं सिर ते रख टुर पई,
मेरे सिर तूं वग्या पानी मेरी साडी भिग गई सारी,
मैं हा हा कार मचाया छलिया तूं ऐ के कीता,
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।।

ओ इट मार के नस गयो मोहन, मैं रोंदी कीवें दर्शन जावां,
मैं रोंदी ते कुरलादी ओदे मगरे दौडी जावां,
आखेगी मईया नू जाके क्यों इतना लाडला कीता,
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।।

नी मैं अपणा कीता पाया क्यों दोष शाम ते लावां,
नी मैं शाम दा दर्शन करके अज सब कुछ हे पा लित्ता,
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।
सखि शाम सुन्दर छलिए ने मैंनू दिवाना कीता।।

हर वेले दिल घबरावे ऐसा मस्ताना कीता।

(परंपरागत भजन)
Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...