Sunday, August 17, 2014

कहना

क्या कहूं, कैसे कहूं,
कब कहूं, किससे कहूं,
कितना कहूं।
कहना तो बहुत कुछ है,
सुनने वाला कोई नही है।
कहना तो जरूरी है,
पर उनको सुनना नही है।
कहने का समय भी है,
पर उनको सुनने का समय नही है।
किससे कहूं, कब कहूं,

सुनने वाला कोई नही है।
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...