Sunday, August 17, 2014

कहना

क्या कहूं, कैसे कहूं,
कब कहूं, किससे कहूं,
कितना कहूं।
कहना तो बहुत कुछ है,
सुनने वाला कोई नही है।
कहना तो जरूरी है,
पर उनको सुनना नही है।
कहने का समय भी है,
पर उनको सुनने का समय नही है।
किससे कहूं, कब कहूं,

सुनने वाला कोई नही है।
Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...