Sunday, August 31, 2014

साथी

कुछ वीरान सी हो गई ज़िन्दगी
साथी के चले जाने के बाद।
अब तो दीवारे ही हो गई साथी
साथी के चले जाने के बाद।
बार बार याद आता है चेहरा साथी का
साथी के चले जाने के बाद।
वो हसीन मुस्कुराता चेहरा साथी का
वो दिल को लुभाता चेहरा साथी का
वो हर पल प्यार करता चेहरा साथी का
वो हर पल प्यार मांगता चेहरा साथी का
वो हर पल इज्ज़त करता चेहरा साथी का
वो हर पल इज्ज़त करवाता चेहरा साथी का
वो हर ग़म को भुलाता चेहरा साथी का
वो प्रेरणा देता चेहरा साथी का
वो वीराने को महफ़िल बनाता चेहरा साथी का
वो पल पल साथ निभाता चेहरा साथी का
वो हर पल साथ रहता चेहरा साथी का।
अब तो दीवारे ही हो गई साथी
साथी के चले जाने के बाद।।
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...