Monday, October 13, 2014

दिल का हाल


तुझे क्या बताऊँ दिल का हाल
तुझे सब मालूम है।
दिल के टुकड़े कितने हुए
तुझे सब मालूम है।
फिर कल रात नीद नहीं आई
तुझे सब मालूम है।
आज दिन में भी चैन नहीं
तुझे सब मालूम है।
दिल से तुझे बुलाता हूँ
तुझे सब मालूम है।
दिल क्या खोल कर दिखलाऊ

तू ही है उसमे, तुझे सब मालूम है।।
Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...