Friday, January 23, 2015

दिल


इस दिल को संभाल कर रखिये
हर बात पर मचल जाता है।
नादान है यह दिल
हर बात पर रूठ जाता है।
बात ना मानो इस दिल की
जोर से धड़कने लग जाता है।
जब कहते है इसको नादान
भाग कर कोपभवन चला जाता है।
जब मानते हैं इसकी बात
खुश होकर हंसता जाता है।
जब मुस्कुरा कर मिलते हैं दो हसीन चेहरे

दिल दिल से मिल जाता है।
Post a Comment

जगमग

दिये जलें जगमग दूर करें अंधियारा अमावस की रात बने पूनम रात यह भव्य दिवस देता खुशियां अनेक सबको होता इंतजार ...