Monday, February 16, 2015

रौशन


करें दिल हम रौशन
भुला दें हम दिलों के अंतर
गिले शिकवों में क्या रखा है
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
समझे किसी को छोटा बड़ा
सब हैं प्यार के काबिल
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
क्या कोई गरीब अमीर
दिल है सबका एक सा
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
एक सा सबका धड़कता है दिल
करें बेदाग़ हम दिल
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
प्यार के लिए बना है यह दिल
छोड़ दें नफरत हम
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
क्या तेरा क्या मेरा
हंसते हंसते बिताएं ज़िन्दगी
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
गम का क्या है
आदत है उसकी आने जाने की
करें दिल हम रौशन

करें दिल हम रौशन
खुशियां बांटे जग में
हंसना सिखाएं हम सबको
करें दिल हम रौशन


Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...