Tuesday, April 14, 2015

अम्मा


रात के डेढ़ बज़ रहे थे। कोठी का गेट चौकीदार ने खोला। रवि और रीना कार से उतरे। मेन गेट चाबी से खोल रहे थे, अम्मा सीढ़ियां उतर कर भागी भागी आई। अम्मा को आते देख कर रवि ने कहा "अम्मा क्या बात है सोई नहीं।"
"कार का हॉर्न सुन कर नींद खुल गई। सोचा, कुछ ज़रुरत हो आपको।"
रीना ने हंसते हुए कहा "अम्मा, आपको कह कर गए थे कि शादी में जा रहे हैं। देर तो हो जाती है शादी में।"
"बस सोचा कि शायद किसी चीज़ की ज़रुरत हो।" अम्मा बोली।
"अम्मा जब आ गई हो तो मटके का ठंडा पानी पिलाओ।"
"जी अभी लाई।" कह कर अम्मा पानी लेने चली गई।
पानी पी कर रवि ने अम्मा से कहा "नया मटका लग रहा है। मिटटी की हलकी महक आ रही है।"
"हां, दोहपर में टूट गया। बच्चे खेल रहे थे। उनके खेलने में मटका टूट गया।"
"कोई बात नहीं। मटके का ठंडा पानी पी कर प्यास बुझ जाती है। फ्रीज के पानी में वो बात नहीं, जो मटके के पानी में है। अच्छा अम्मा, जब आ गई हो तो जग में मटके का पानी भर दो।"
"जी, अभी भर देती हूं।" अम्मा जग में पानी भर कर चली गई और रवि और रीना एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा दिये। दोनों बहुत थके हुए थे। कपडे बदल कर सो गए।

देर रात के सोए थकान से चूर रवि और रीना सुबह देर से उठे। अम्मा सुबह सुबह उठ कर रसोई के काम में जुट गई। रवि उठ कर डाइनिंग टेबल पर अखबार पढ़ रहा था। अम्मा चाय लेकर आई। तभी रीना नहा कर पूजा घर में पूजा करने लगी तो अम्मा ने भोग के लिए दूध रीना को दिया और गुलाब, गेंदे के फूल क्यारी से तोड़ कर रीना को दिए। पूजा करके रीना डाइनिंग टेबल पर रवि के साथ बैठ कर रात शादी की बातों पर चर्चा कर रही थी।
तभी अम्मा आकर पूछती है "नाश्ते और लंच में क्या बनाना है।"
"अम्मा रात शादी में भारी खाना हज़म करने में समय लगता है। आज तो हल्का बनाना है। नाश्ते में दलिया और लंच में खिचड़ी बना दो।"

रवि और रीना अमीर पति पत्नी, उम्र चालीस के पास, दो बच्चे, दोनों मसूरी के स्कूल में पढ़ते हैं और होस्टल में रहते हैं। रीना पति रवि का हाथ व्यापार में बटाती थी। ऑफिस रवि के साथ जाना, घर के काम के लिए तीन नौकर। चौथी अम्मा। अम्मा रसोई का काम संभालती थी। रीना ने पूरी रसोई अम्मा के हवाले कर रखी थी। अम्मा नाम उसका नहीं था, नाही उम्र में बड़ी थी और न ही देखने में अम्मा लगती थी। अम्मा की उम्र पच्चीस वर्ष और नाम देवकी। आंध्र प्रदेश की रहने वाली देवकी लगभग तीन साल पहले रवि और रीना के घर आई। दो साल का छोटा सा लड़का हाथ पकडे काम मांगने आई। देवकी के रिश्ते में दूर का भाई रवि के ऑफिस में काम करता था। देवकी के पति ने देवकी और उसके दो साल के लड़के को घर से निकाल दिया और दूसरी औरत के संग रहने लगा। घर से दुत्कारी अनपढ़ देवकी को घर के काम के सिवाए कुछ नहीं आता था। रीना और रवि पंजाबी, देवकी आंध्र प्रदेश की। दोनों के खान पान में ज़मीन आसमान  का अंतर था। रीना ने देवकी की दयनीय स्थिति देख कर उसे नौकरी दे दी। शुरू में घर की साफ़ सफाई देवकी ने की, पर उसने एक साल में पंजाबी खाना बनाने में महारत हासिल कर ली। टेलीविज़न पर कुकरी शो देखते देखते एक साल में सम्पूर्ण पंजाबी रसोइया बन गई। देवकी अपने पुत्र के साथ सर्वेंट क्वार्टर में रहती थी। देवकी का पुत्र देवकी को अम्मा कहता था। उसका अनुसरण करते करते रवि और रीना भी देवकी को अम्मा कहने लगे। देखते देखते अड़ोस पड़ोस और रवि रीना के परिवार में अम्मा के नाम से मश्हूर हो गई। देवकी जग अम्मा बन गई। अम्मा का सदा मुस्कुराता चेहरा, कभी किसी ने उसे किसी से झगड़ा करते या ऊंची आवाज़ में बात करते नही देखा। मधुरभाषी अम्मा रवि और रीना के परिवार का एक अहम हिस्सा बन गई।

रविवार की सुबह रवि लॉन में बैठ कर अखबार पढ़ रहा था, तभी अम्मा का लड़का स्वामी आया और क्यारी में लगे गुलाब के पौधों से गुलाब के फूल तोड़ने लगा। तभी उसके हाथों में कांटा चुभ गया। कांटा चुभने से खून निलकने लगा। रवि ने आवाज़ थी "अम्मा स्वामी को देखो, कांटा चुभ गया है। दवाई लेकर आओ।" अम्मा दौड़ी हुई आई और स्वामी को लेकर अपने कमरे में गई। थोड़ी देर बाद अम्मा रसोई में खाना बनाने आई तब रवि ने पूछा "कितने साल का हो गया है तुम्हारा बेटा।"
"पांच साल का।"
"अब इसको स्कूल में डालो। कुछ इसकी पढ़ाई के बारे में भी सोचो। रामू (घर का दूसरा नौकर) के बच्चे भी स्कूल जाते हैं। उसी स्कूल में दाखिल करवा दो। उनके साथ स्कूल जायेगा।"
अगले ही दिन अम्मा ने स्वामी को स्कूल में दाखिल करा दिया। अब अम्मा जल्दी उठने लगी, सुबह की चाय रवि, रीना को देने के बाद स्वामी को स्कूल छोड़ने जाती, फिर नाश्ते की तैयारी में जुट जाती। दोहपर को स्वामी को स्कूल से लेने जाती। स्वामी हर चीज़ को जल्दी पकड़ता था, अतः पढ़ाई में हर चीज़ जल्दी याद कर लेता। क्लास में टीचर्स से शाबाशी मिलती। पति से त्यागी एक स्त्री का उसका पुत्र ही एकमात सहारा था। रीना कभी सोचती कि अनपढ़ होते हुए भी अम्मा में सहनशक्ति बहुत है और जीवन की मुश्किलों से लड़ने की हिम्मत ईश्वर ने दी है। अम्मा भी रवि और रीना की अहसानमंद थी कि मुश्किल घडी में जब उसके पति ने उसे त्याग दिया, तब एक अजनबी को सहारा दिया। डूबते को तिनके का सहारा होता है। अम्मा को रवि और रीना का सहारा मिला। अम्मा की ज़िन्दगी रवि रीना की रसोई और पुत्र स्वामी तक सीमित थी। इस दायरे में वह खुश थी और सदा चहकती नज़र आती थी।

आज दस साल हो गए अम्मा को रवि रीना के घर रहते हुए। हमेशा चहकने वाली अम्मा पिछले एक महीने से बीच बीच में उदास सी नज़र आने लगी। रीना के पूछने पर अम्मा ने हंस कर टाल दिया।
"अम्मा तबियत ठीक नहीं लग रही तो डॉक्टर को दिखा दो। तबियत से मज़ाक अच्छा नहीं अम्मा।"
"नहीं ऐसी कोई बात नहीं, कुछ ज़रूरत हुई तब मैं खुद अपने आप डॉक्टर के पास चेकअप के लिए जायूंगी।" अम्मा ने हंस कर कहा।

रविवार की सुबह लॉन में रवि और रीना चाय की चुस्कियों के बीच अखबार पढ़ रहे थे। अखबार से नज़र उठी तो मेन गेट पर नज़र गई, वहां एक व्यक्ति खड़ा था। रवि ने उससे पूछा "किससे मिलना है। क्या काम है?"
"वो आपके यहां देवकी रहती है, उससे मिलना है।"
"मैंने तुम्हे पहचाना नहीं।"
"वो मुझे जानती है। मैं साथ वाली कोठी में रहता हूं।"
"कौन सी कोठी में रहते हो।" रवि ने कड़क आवाज़ में पूछा, क्योंकि अम्मा का एक रिश्तेदार उसके ऑफिस में काम करता है और कोई उसकी पहचान वाला कभी मिलने आया नहीं। दस साल से अम्मा रह रही है। कोई उससे मिलने नहीं आता।
"कौन सी कोठी में रहते हो। क्या करते हो?" रवि ने पूछा।
"सर जी, में सेठी साब की कोठी में रहता हूं। सेठी साब का ड्राईवर हूं।"
"कभी देखा नहीं।"
"अभी एक महीना हुआ है मुझे सेठी साब के यहां काम करते हुए।"
रवि ने अम्मा को आवाज़ दी "देखो अम्मा, कोई मिलने आया है।"
अम्मा ने उस व्यक्ति को देखा पर मेन गेट तक नहीं गई। यही से तेलुगु में उसे कुछ कहा। रवि और रीना तेलुगु में कही बात समझ नहीं सके। तेज और कड़क आवाज़ में अम्मा उस व्यक्ति से बात कर रही थी। यह समझ गए कि अम्मा उससे मिलना नहीं चाहती थी और जाने को कह रही थी। रवि और रीना को देख वह मेन गेट से अम्मा से तेलुगु में बातें करता रहा। अंदर नहीं आया। अम्मा गुस्से में पैर पटकती अंदर चली गई। अम्मा का गुस्सा देख रवि ने उस व्यक्ति को जाने के लिए कहा।

रीना ने अम्मा को अपने कमरे में बुलाया। एक महीने से परेशान अम्मा को उस आदमी से उलझते देख रीना समझ गई कि कोई बात अवश्य है।
"अम्मा कौन था वो?" रीना ने अम्मा से पूछा।
"मेरा पति, जिसने दस साल पहले मुझे छोड़ दिया था"
"क्या कह रहा था?"
"जिस लड़की की खातिर मुझे छोड़ा था, वह उसे छोड़ कर किसी और मर्द के साथ चली गई। मेरे पास फिर से आना चाहता है।"
"कब से तुम्हे मिल रहा है।"
"एक महीने से।"
"तुम्हारी परेशानी का कारण तुम्हारा पति है।"
"हां।"
"क्या सोचा है।"
"उसके पास नहीं जायूंगी।"
रीना ने अम्मा को देखा, उसकी आंखें नम थी पर अश्कों को गालों पर छलकने नहीं दिया।


Monday, April 06, 2015

नमस्ते जी


नमस्ते जी सुनते ही सोहन रुक गया। मुड़ कर देखा तो एक लड़का, जिसकी उम्र लगभग अठारह उन्नीस वर्ष की होगी, के होठों पर हलकी सी मुस्कान थी, उसने सोहन से नमस्ते की थी। नमस्ते का जवाब सोहन ने नमस्ते से किया। सोहन रुक गया और उस लड़के को ध्यान से देखने लगा परन्तु उसको पहचान पाने में असमर्थ रहा।

"मैंने आपको पहचाना नहीं।" सोहन ने उस लड़के से कहा।

"जी, मेरी यह स्टेशनरी की दुकान है। आज ही खोली है, पहला दिन है। आपको सीढ़ियों से ऊपर जाता देख समझा कि ऊपर की दुकान आपकी है।"

"यह भी क्या संयोग है कि अपने दुकान खोली और पहला दिन है। आपकी दुकान के ऊपर जो कमरा है, उस में मैंने ऑफिस बनाया है और मेरे ऑफिस का भी पहला दिन है। मैं पंडित का इंतज़ार कर रहा हूं। पूजा करने के बाद ऑफिस का कामकाज शुरू करूंगा। तुम भी कह रहे थे कि तुम्हारी दुकान का पहला दिन है, तुमने पूजा करवाई।" सोहन ने उस लड़के से पूछा।

"जी, सुबह आठ बजे ही पूजा हो गई। पंडित जी ने सुबह आठ बजे का शुभ मुहूर्त निकाला था।"

"हमारे पंडित तो बहुत व्यस्त रहते हैं। बारह बजे का पूजा का समय दिया है, आते ही होंगे। वैसे हम बाते कर रहे हैं परन्तु एक दूसरे से अपना अपना परिचय तो कराया नहीं। मेरा नाम सोहन है। ऊपर कमरे में ऑफिस खोल रहा हूं।" सोहन ने अपना परिचय दिया।

"मेरा नाम प्रीत अरोड़ा है। मैंने स्टेशनरी की दुकान खोली है। आपको स्टेशनरी की ज़रुरत हो तो सेवा का अवसर दीजिये।" उस लड़के ने अपना परिचय दिया।

इतने में सोहन के पंडित जी आ गए और सोहन ऑफिस की पूजा में व्यस्त हो गया। पूजा के बाद सोहन नीचे उतरे और अपने ऑफिस के लिए कुछ स्टेशनरी खरीदी।

"सर जी, आप मेरी दुकान पर पहले ग्राहक है। आपका ऑफिस भी दुकान के ऊपर है। आपका मेरे जीवन में विशेष स्थान रहेगा।" प्रीत ने कहा।

"क्या उम्र है, छोटे नज़र आ रहे हो।"

"जी, अठारह साल।"

"पढ़ाई भी करो।"

"बारहवीं में नंबर कम आये। पढ़ने में दिल नहीं लगता, किसी भी कॉलेज में दाखिला मिलेगा नहीं, इसलिए दुकान खोल दी है। पापा की दुकान सदर बाजार में है। स्टेशनरी का काम करते है। यहां मेरे लिए दुकान खोली है।"

सोहन बातचीत के बाद ऑफिस में आ कर काम करने लगा। शाम के समय फुरसत के पल में सोचने लगा कि प्रीत के परिवार ने उचित कदम उठाया है। पढ़ाई में दिल नहीं लगता तो दुकान खोल दी। उसने पढ़ाई करके कौन से तीर चला दिए हैं। पढ़ाई की फिर दस साल विभिन्न कंपनियों में नौकरी की। सरकारी नौकरी मिली नहीं, निजी कंपनियों में चाहे छोटी हो या बड़ी, हर जगह एक जैसे हाल हैं। वेतन वृद्धि की बात करो तो कोई करता नहीं, काम खूब करवाते हैं। सुबह समय से आओ परन्तु शाम को छुट्टी का कोई समय नहीं। देर रात तक काम किया। थक हार कर हर दूसरे साल अधिक वेतन के लिए नौकरी बदली। जब दूसरी जगह नौकरी मिलने पर इस्तीफा दिया तब कहते थे कि वेतन बड़ा देते हैं। यही काम करो। लानत है मालिकों की ऐसी छोटी सोच पर। शराफत से वेतन बढ़ाते नहीं, फिर रुकने का क्या फायदा। नई जगह नया अनुभव और अधिक वेतन। दस वर्षों में पांच नौकरियां बदली। अब दस साल बाद अपना खुद का व्यापार शुरू किया, कि अपना हाथ जगन्नाथ। खुद के लिए काम करेंगे। किसी की गुलामी नहीं। उसके साथी व्यापार करते हुए उससे कहीं आगे निकल गए परन्तु उसके पास न तो पूंजी थी और न हिम्मत कि अपना कोई व्यापार कर सके। हिम्मत करके दस वर्ष नौकरी करने के पश्चात जब तरक्की नहीं मिली खुद का छोटा सा व्यवसाय शुरू किया। किराये के छोटे से कमरे में ठेकेदारी का काम चालू किया। उसे प्रीत का निर्णय उचित लगा, जब पढ़ने में दिल नहीं लगता और नंबर भी नहीं आये, इधर उधर बेकार मटर गस्ती करने से अच्छा है कि दुकान ही चलाई जाए। दस वर्ष बाद बहुत आगे जायेगा प्रीत।

सोहन और प्रीत हर रोज़ मिलते। ठेकेदारी में उसे कई बार बाहर जाना पड़ता। सोहन सारे काम खुद करता। कोई सहायक नहीं था। जब ऑफिस से बाहर जाना होता तो ऑफिस बंद करके चाबी प्रीत को दे देता। इस बहाने कई बार मिलना होता। प्रीत मिलनसार और हंसमुख नवयुवक था। हर बार मिलने पर नमस्ते कहता। सोहन को उसका नमस्ते का अंदाज़ अच्छा लगता। प्रीत सोहन से ही नहीं, सभी ग्राहकों से नमस्ते करता। दिन बीतते गए। प्रीत की दुकान चल निकली और सोहन का धंधा। प्रीत स्टेशनरी के साथ स्कूल, कॉलेज की पुस्तकें भी रखने लगा। ठेकेदारी में जो सामान सोहन को ज़रुरत पड़ती, प्रीत के पिता सदर बाज़ार से ला देते। दो तीन वर्ष बाद प्रीत का छोटा भाई गगन भी दुकान पर प्रीत का हाथ बटाने लगा। सोहन ने भी चार सहायक रख लिए। सोहन प्रीत को महीने में ख़रीदे सामान का भुगतान एक मुस्त चेक से करता। प्रीत ने कभी अग्रिम भुगतान के लिए नहीं कहा। हर महीने की आखिरी तारीख में बिल बना कर सोहन को दे देता। सोहन बिल चेक करके तीन चार दिन बाद बिल का भुगतान कर देता। सोहन का व्यापार उन्नति की चोटियों पर चढ़ता गया। सोहन ने बड़ा ऑफिस ले लिया परन्तु प्रीत की दुकान के ऊपर वाले ऑफिस को नहीं छोड़ा। सोहन उस ऑफिस को भाग्यशाली मानता था, जहां से उसने व्यापार छोटी सी पूंजी से ठेकेदारी का काम शुरू किया था आज दस साल बाद एक बहुत बड़े ऑफिस में कंस्ट्रक्शन कंपनी का मालिक बन गया था। उधर प्रीत की दुकान भी ठीकठाक चल रही थी। जब भी प्रीत सोहन के ऑफिस चेक लेने आता तो नमस्ते से दोनों की बात शुरू होती और कम से कम एक घंटे तक चलती। आज दोनों दोस्त बन गए थे, हालांकि सोहन और प्रीत की उम्र में पंद्रह वर्षों का अंतर था। समय पंख लगा कर उड़ जाता है। सोहन व्यापार में अधिक व्यस्त रहने लगा, कई बार प्रीत चेक लेने ऑफिस आता तो आपस में मुलाकात नहीं हो पाती।

एक दिन सोहन दोपहर के डेढ़ बजे ऑफिस से निकल रहा था, उस समय प्रीत ऑफिस के गेट पर सोहन से मिला, आपस में नमस्ते हुई।

"नमस्ते जी।"

"नमस्ते जी, प्रीत, मैं जरा जल्दी में हूं। चेक एकाउंट्स से ले लेना।"

"आपसे कुछ बात करनी है। चेक तो अभी बना नहीं होगा। टाइम नहीं हुआ है।"

"मैं अकाउंटेंट को फ़ोन पर कह दूंगा, शाम को आ कर चेक साइन कर दूंगा। शाम को आना।" सोहन कह कर फटाफट चला गया। प्रीत का कोई चेक नहीं बनना था, वह भी वापिस लौट गया। सोहन ने कार में बैठते ही अकाउंटेंट को प्रीत का चेक बनाने को कह दिया।

शाम को सोहन ऑफिस में देर से आया, प्रीत इंतज़ार कर रहा था। प्रीत को देख कर सोहन ने अकाउंटेंट से प्रीत का चेक बना कर लाने के लिए कहा। अकाउंटेंट खाली हाथ सोहन के केबिन में आया।

"चेक लाओ, प्रीत के चेक में देरी क्यों की।"

"सर जी, इस बार बिल ही नहीं दिया, प्रीत जी ने।"

"अच्छा तुम जाओ।" अकाउंटेंट को जाने के लिए कहा। फिर प्रीत से "बिल में देरी मत करो, कल सुबह बिल दे दो, मैं सारा दिन ऑफिस में रहूंगा, उसी समय साइन कर दूंगा।"

"जी, आपसे निजी बात करनी है, बिल बनाने का समय नहीं हुआ है। बिल तो महीने की आखिरी तारीख में बनाता हूं। आप से कुछ मदद चाहता हूं।"

"कहो दोस्त, मेरे पास अब समय है। सुबह एक मीटिंग में जाना था। अब बात करते हैं। यहां से घर ही जाना है। तुम्हारी भाभी मायके गई है।"

प्रीत चुप रहा। प्रीत की चुप्पी पर सोहन ने कहा। "चुप क्यों हो, कहो। दोस्तों से कोई पर्दा नहीं करते।"

प्रीत चुप रहा। कहना चाहता था, पर गला सूखता जा रहा था। सोहन ने प्रीत को पानी का गिलास दिया। पानी पी कर प्रीत ने धीरे से कहा "कुछ मदद चाहिए।"

"कहो क्या बात है।"

"जी, पिताजी को कैंसर हो गया है। ऑपरेशन और कैंसर के इलाज़ के लिए पैसों का इंतज़ाम पूरा नहीं हो रहा है। कुछ रकम आप एडवांस में दे दें, तो आपका आभारी रहूंगा। हर महीने के बिल में एडजस्ट करवा लूंगा।"

"तुमने मुझसे बात क्यों छुपाई। दोस्तों में पर्दा अच्छा नहीं होता।"

"पिताजी की तबियत तीन महीनों से अच्छी नहीं चल रही थी। अचानक से पिछले सप्ताह बहुत बिगड़ गई, हॉस्पिटल में दाखिल कराया, कल ही मालूम हुआ कि कैंसर की थर्ड स्टेज है। तुरंत ऑपरेशन के लिए डॉक्टर ने कहा है। पिताजी के इलाज़ में काफी रकम खर्च हो चुकी है। तुरंत रकम इकठ्ठा करने में दिक्कत आ रही है। ऑपरेशन के बाद कीमोथेरपी और रेडिएशन एक साल तक इलाज़ चलेगे। कुछ एडवांस मिल जाये। मैं बिलों में एडजस्ट करवा दूंगा।"

प्रीत की बात सुन कर सोहन ने कुछ पल सोचा और प्रीत से कहा "प्रीत कैंसर के इलाज़ में कोई कसर नहीं छोड़ना। इलाज़ बढ़िया और अच्छा करवाना। तुम रुपये पैसों की चिंता मत करना। मुझे मालूम है कि कैंसर का इलाज़ बहुत महंगा होता है। तुम मेरे दोस्त हो, तुम्हारी मदद करना मेरा फ़र्ज़ है।" कह कर सोहन से अलमारी से दो लाख रुपये निकाल कर प्रीत को दिए। अभी इतना रख लो और ऑपरेशन तुरंत करवा लो। और रकम की ज़रुरत हो, बिना झिझक कर फ़ोन कर देना। मैं खुद देने आऊंगा। हां वापिस देने की मत सोचना। जब तक इलाज़ पूरा सफल नहीं हो जाता, मैं वापिस नहीं लूंगा।"

प्रीत की आंखों में आंसू थे। कांपते हाथों से दो लाख रुपये पकडे। सोहन दो लाख रुपये दे कर भूल गया कि कभी उसने प्रीत को दिए थे और उससे वापिस भी लेने हैं। प्रीत सोहन के ऑफिस सामान देता रहा और बिल के भुगतान में दो लाख रुपये एडजस्ट करवाने के लिए चेक लेने सोहन के ऑफिस नहीं गया परंतु सोहन ने ऑफिस में आदेश दिया हुआ था कि प्रीत के बिल का भुगतान समय पर कर दिया जाये। जब प्रीत चेक लेने नहीं आया तो अकाउंटेंट खुद उसकी दुकान पर जा कर चेक देता कि सेठ जी का आदेश है। सोहन प्रीत से उसके पिता के इलाज़ और स्वस्थ्य के विषय में बात करता रहता।

एक साल बीत गया। सोहन के पिता का कैंसर का इलाज़ पूर्ण हो गया। इलाज़ के बाद एक दिन प्रीत अपने पिता के साथ सोहन से मिलने ऑफिस आया।

"नमस्ते जी, पिताजी भी मिलने आए हैं।" आज प्रीत की आवाज़ में आत्मसम्मान था। एक वर्ष पहले प्रीत सोहन से कहने के लिए झिझक रहा था, पर आज फिर पुरानी उत्तेजना और स्फूर्ति के साथ चेहरे में मुस्कान लिए प्रीत सोहन के साथ बैठा था।

"पिताजी कहां हैं?" सोहन ने प्रीत से पूछा।

"जी बाहर बैठे हैं।"

"बाहर क्यों बिठा रखा है। अंदर लाओ। अच्छा रुको, मैं उनको लाने चलता हूं।" सोहन बाहर जा कर प्रीत के पिताजी को केबिन में अपने साथ ले कर आये हैं। "नमस्ते बाबूजी आप का अपना केबिन है, मुझे अच्छा नहीं लगा कि आप बाहर बैठ गए।"

"नमस्ते बेटा, यह तो तुम्हारा बड़प्पन है जो मुसीबत में देवता बन कर आए।" प्रीत के पिताजी ने कुर्सी पर बैठते हुए हाथ जोड़ कर विन्रमता से कहा।

"कैसी बात करते हो बाबूजी, मेरे और प्रीत में कोई अंतर नहीं है। दोस्त भाईओ से बड़ कर होते है।"

बातों के बीच में प्रीत के पिताजी ने अपना बैग खोला और एक लिफाफा सोहन के आगे किया। "यह बेटा, आपकी अमानत, अब मैं इसे और अधिक संभाल नहीं सकता।"

सोहन ने लिफाफा खोला, उसमे दो लाख रुपये थे। "यह क्या दे रहे हो, पिताजी।"

"बेटा जी, प्रीत ने मेरे इलाज़ के लिए दो लाख रुपये आपसे एडवांस मांगा था, अपने बिलों में एडजस्ट भी नहीं किया। उस समय हमारे पास रकम नहीं थी। अकस्मात इलाज़ का खर्च उठाने में असमर्थ थे। आपके इन दो लाख रुपये ने मुझे नई ज़िन्दगी दी। यदि आप उस समय मदद न करते, तो मैं शायद आज यहां नहीं होता। कैंसर के इलाज़ में आठ लाख रुपये खर्च हुए। आज में स्वस्थ हूं, लेकिन कमज़ोरी की वजह से सदर बाजार हर रोज़ आना जाना मुश्किल है। वहां की दुकान बेच दी है। अब मैं प्रीत का हाथ उसकी दुकान में बटाऊंगा। तुम्हारा उपकार मैं कभी नहीं भूल सकता।"

"बाबूजी इसमें उपकार नहीं है। एक बेटे ने पिता के प्रति सिर्फ फ़र्ज़ निभाया है। मेरे और प्रीत में कोई अन्तर नहीं। प्रीत आपका बेटा, मैं भी आपका बेटा।"

"बेटा, तुम जीवन में बहुत तरक्की करो, मेरी ईश्वर से यही दुआ है। तुमने समय पर मदद की। मैं और मेरा परिवार आभारी है। फिर कभी यदि ज़रूरत पड़ेगी तब निसंकोच तुम्हारे पास आएंगे।" प्रीत के पिता ने मुस्कुराते हुए कहा।

"अवश्य मेरा सौभाग्य रहेगा।" सोहन के हाथ में दो लाख रुपये का लिफाफा था।

"नमस्ते बेटा।" प्रीत के पिताजी ने कुर्सी से उठते हुए कहा। "अब चलते हैं। घर आना।"

"अवश्य पिताजी।" सोहन ने भी कुर्सी से उठते हुए कहा।

"नमस्ते भाई साहब।" प्रीत ने कहा।


सोहन नम आंखों के साथ प्रीत और उसके पिताजी को बाहर छोड़ने आया। प्रीत और पिताजी धीरे धीरे सीढ़ियां उतर रहे थे। सोहन की नम आंखों से आंसू छलक गए।

मतभेद

पांच वर्षीय अचिंत घर के बाहर पड़ोस के बच्चों के साथ खेल रहा था। खेलते - खेलते दो बच्चे अचिंत की मां के पास शिकायत ...