Monday, May 18, 2015

दुनिया बनाने वाले

दुनिया बनाने वाले तूने यह कैसी दुनिया बसाई
यहां तो है जग हंसाई या फिर रुलाई।

दुनिया बनाने वाले तूने यह कैसी दुनिया बसाई
यहां प्रेम कम है नफरत की है लड़ाई।

दुनिया बनाने वाले तूने यह कैसी दुनिया बसाई
यहां मैं सब कुछ हूं तू कुछ भी नहीं की लड़ाई।


Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...