Monday, May 18, 2015

दुनिया बनाने वाले

दुनिया बनाने वाले तूने यह कैसी दुनिया बसाई
यहां तो है जग हंसाई या फिर रुलाई।

दुनिया बनाने वाले तूने यह कैसी दुनिया बसाई
यहां प्रेम कम है नफरत की है लड़ाई।

दुनिया बनाने वाले तूने यह कैसी दुनिया बसाई
यहां मैं सब कुछ हूं तू कुछ भी नहीं की लड़ाई।


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...