Friday, June 05, 2015

तेरी जमना दा

तेरी जमना दा मिट्ठा मिट्ठा पाणी
मटकिया भर लेण दे।
तेरी जमना तर मुक नहीं जाणि मटकिया भर लेण दे
तेरी जमना दा मिट्ठा मिट्ठा पाणी
मटकिया भर लेण दे।

घरों ता आई मैं शाम पाणी दे बहाने
अगों डिठे तेरे नैन मस्ताने
मेरी चाल हो गई मस्तानी मटकिया भर लेण दे
तेरी जमना दा मिट्ठा मिट्ठा पाणी
मटकिया भर लेण दे।

मटके ते मटका, मटके ते झारी
मुरली दी तान कलेजे विच मारी
फिर हो गई मैं दीवानी मटकिया भर लेण दे
तेरी जमना दा मिट्ठा मिट्ठा पाणी
मटकिया भर लेण दे।

कुंज गली विच घेर मैनू
कली वेख के छेड़ मैनू
घर मारेगी मैनू ससरानी मटकिया भर लेण दे
तेरी जमना दा मिट्ठा मिट्ठा पाणी
मटकिया भर लेण दे।

तेरी जमना दा मिट्ठा मिट्ठा पाणी

मटकिया भर लेण दे।
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...