Monday, July 06, 2015

कुछ कुछ कहते हैं


घडी - समय मत गंवाओ

समुन्दर - विशाल दिल रखो

चींटी - निरन्तर काम करते रहो

वृक्ष - परोपकारी बनो

धरती - सहनशील बनो

सूर्य - निरंतरता बनायें रखो

गुलाब - दुःख में भी खुश रहो

दीपक - दूसरों को रोशन करो

कुत्ता - वफादार बनो

कोयल - मीठा बोलो

कौआ - चतुर बनो

मुस्कान - प्रेम की भाषा है

धन, ताकत और सुंदरता - इन पर अभिमान मत करो


हुनर तो सबमें होता है, फर्क सिर्फ इतना है, किसी का छिप जाता है और किसी का छप जाता है।
Post a Comment

विवाह उपरांत पढ़ाई

अनुप्रिया पढ़ने में होशियार थी। हर वर्ष स्कूल में प्रथम स्थान पर रहती थी। पढ़ाई के प्रति उसकी लगन कॉलेज में भी कम नही हुई। उसकी इच्छा दिल्ल...