Monday, September 07, 2015

गुरु जी मेरी झोली भर देना


गुरु जी मेरी झोली भर देना, प्रभु जी मेरी झोली भर देना।।
राम नाम अनमोल खजाना, इसमें भर देना।
जो भी आये द्वार तुम्हारे, भर भर झोली ले जाए सारे।
भरे रहें भंडार ऐसी कृपा कर देना।
गुरु जी मेरी झोली भर देना, प्रभु जी मेरी झोली भर देना।।

लुटा रहे गुरुदेव खजाने, भर लेंगे जो प्रेम दीवाने,
गुरु जी मेरी झोली भर देना, प्रभु जी मेरी झोली भर देना।।

नाम रूपी अनमोल खजाना, बिन सतगुरु के दुर्लभ पाना,
साथ चले गुरूजी नाम तुम्हारा, ये सोच कर लेना।
गुरु जी मेरी झोली भर देना, प्रभु जी मेरी झोली भर देना।।

श्री सतगुरु जी दाता मेरे, सारी संगत शरण तेरे,
अपने चरण शरण में लेकर, सारे कष्ट मिटा देना।

गुरु जी मेरी झोली भर देना, प्रभु जी मेरी झोली भर देना।।
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...