Wednesday, October 07, 2015

गुरूस्तोत्रम्

गुरूस्तोत्रम्
गुरूब्रह्मा गुरूविष्णु गुरूदेवो महेश्वर:
गुरू: साक्षातपरब्रह्म तस्मै श्रीगुरूवे नम: ।।

गुरू ही ब्रह्मा है, गुरू ही विष्णु है, गुरू ही महादेव शंकर है।
गुरू साक्षात परब्रह्म है ऐसे श्री गुरूदेव को बारम्बार प्रणाम है।

Guru Stotaram
My prostrations to the Guru who is Brahma, Vishnu and Mahesha.
Guru is the directly visible Supreme Brahman (God).

To such a Guru (preceptor) I offer my salutations.
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...