Tuesday, November 17, 2015

शयन समय की प्रार्थना

शयन समय की प्रार्थना

करचरणकृतं वाक्-कायजं कर्मजं वा
श्रवणनयमजं वा मानसं वापराधम् ।
विहितमविहितं वा सर्वमेतत् क्षमस्व
जय जय करूणाब्धे श्रीमहादेव शम्भो ।।

मेरे द्वारा जाने व अनजाने में कर्मेंन्दियों जैसे हाथ पैर व वाणी तथा ज्ञानेन्द्रियों जैसे कान, आंख व मन द्वारा किए गए अपरोधों को अपार दया के सागर महादेव शम्भो, सभी प्रकार से क्षमा करें।


Bed time Prayer



I have Committed wrong actions knowingly or unknowingly either through my organs of actions e. g. hands, feet & speech or through my organs of perception e.g. ears, eyes & mind. O Lord Mahadeva Sambho! (Bhagavat Siva), the ocean of kindness, kindly forgive me my wrong actions in all respects.
Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...