Wednesday, November 04, 2015

अन्नपूर्णास्तुति

अन्नपूर्णास्तुति

अन्नपूर्णे सदापूर्णे शंकरप्राणवल्लभे ।
ज्ञान-वैराग्यसिद्धयर्थं भिक्षां देहि च पार्वति ।।

अन्नपूर्णा, सदा पूर्ण रहने वाली, शंकर की अर्द्धागिनी मां पार्वती ज्ञान वैराग्य और सिद्धि के लिए मुझे भिक्षा दो।


Annapurna Prayer


O Mother Annapurna (Goddess of Complete and wholesome Food Parvati) Parvati, Dearest of Lord Sanikara, you are having abundance of food which always remains full. I beg you for knowledge, renunciation and bliss.
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...