Sunday, June 12, 2016

मैं नीवीं मेरा सतगुरु ऊंचा

मैं नीवीं मेरा सतगुरु ऊंचा ऊचियां नाल में लाई
सदके जावां उन ऊचियां तो जिना निवियां नाल निभाई

जे मैं वेखां कर्म जो अपणे कुछवी ना मेरे पल्ले
जे मैं वेखां रहमत तेरी भाग ने मेरे स्वल्ले
मैं नीवीं मेरा सतगुरु ऊंचा ऊचियां नाल में लाई
सदके जावां उन ऊचियां तो जिना निवियां नाल निभाई

कलयुग विच भक्ति दा खजाना पांदे भागा वाले
घट घट दी जानण वाले मेरे संत प्यारे
मैं नीवीं मेरा सतगुरु ऊंचा ऊचियां नाल में लाई
सदके जावां उन ऊचियां तो जिना निवियां नाल निभाई

दर तेरे ते मैं गई सतगुरु सुण के शोभा तेरी
दर तेरे दी मैं बंण गई चाकर लाज रखो प्रभु मेरे
मैं नीवीं मेरा सतगुरु ऊंचा ऊचियां नाल में लाई
सदके जावां उन ऊचियां तो जिना निवियां नाल निभाई

परंपरागत भजन
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...