Sunday, June 12, 2016

मेरे मथे ते लिख दे

मेरे मथे ते लिख दे ना अपणा
जेरा वैखे समझ लेवे तेरी वे
लंग जायेगी जिन्दगी मेरी वे
मेरे मथे ते लिख दे ना अपणा।

तेरे रंग विच रंग गई मैं प्यार रंग चढ़ाये
तेरे बर जरे दो अंखियां नू कुछ भी नज़र नहीं आये
मेरी बिगड़ी तार दे बेड़ी वे
लंग जायेगी जिन्दगी मेरी वे
मेरे मथे ते लिख दे ना अपणा।

जेरा वैखे समझ लेवे तेरी वे
सत्त समुंद्रों ढूंढ दिल विच प्यार वसाया तेरा
तू ही दस तेरे बाजो कौन सहारा मेरा
मैं मंगती रहमत तेरी वे
लंग जायेगी जिन्दगी मेरी वे
मेरे मथे ते लिख दे ना अपणा।

जेरा वैखे समझ लेवे तेरी वे
नूर इलाही देख तेरा गई तेरे द्वारे
लंग जायेगी जिन्दगी मेरी वे
मेरे मथे ते लिख दे ना अपणा।
जेरा वैखे समझ लेवे तेरी वे।


परंपरागत भजन
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...