Monday, June 27, 2016

ईश्वर तुम्ही दया करो


ईश्वर तुम्ही दया करो, तुम बिन मेरा कौन है।
दुर्बलता दीनता हरो, तुम बिन मेरा कौन है।।

जग को रचने वाला तू, दुखड़े मिटाने वाला तू।
बिगड़ी बनाने वाला तू, तुम बिन मेरा कौन है।।

माता तू ही पिता तू ही, बंधु तू ही सखा तू ही।
केवल तुम्हारा आसरा, तुम बिन मेरा कौन है।।

तेरी दया को छोड़कर कुछ भी नही मुझे खबर।
जाऊं तो जाऊं मैं किधर, तुम बिन मेरा कौन है।।

बालक हूं मैं केवल तेरा, तू ही पिता परमात्मा।
मुझ को है बस तेरी लगन, तुम बिन मेरा कौन है।।

तेरा भजन, तेरा मनन, भक्ति तेरी, तेरी लगन।
आया हूं मैं तेरी शरण, तुम बिन मेरा कौन है।

ईश्वर तुम्ही दया करो, तुम बिन मेरा कौन है।
दुर्बलता दीनता हरो, तुम बिन मेरा कौन है।।


परंपरागत भजन 
Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...