Sunday, June 12, 2016

बड़े जन्मा दे बाद

बड़े जन्मा दे बाद चोला पाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे
तेनु मिली अमोलक काया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।

चोला जो पाया ऐनू रखी तू संभाल के
कागज दे वगु ऐनू दे वी ना गाल तूं
हीरा जन्म अमोलक पाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।
बड़े जन्मा दे बाद चोला पाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे
तेनु मिली अमोलक काया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।

चोला जो पाया ऐनू रंग विच रंग ले
प्रेम वाला रंग तूं प्रेमियां कोलूं मंग ले
ऐनू चढ़ जाये रंग सवाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।
बड़े जन्मा दे बाद चोला पाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे
तेनु मिली अमोलक काया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।

चोले दी कदर कोई विरला ही जाणदा
जेरा कदर जाणदा ओई मौजा मारदा
संता ने कह के सुणाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।
बड़े जन्मा दे बाद चोला पाया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे
तेनु मिली अमोलक काया कि वेखी कित्थे दाग ना लगे।


परंपरागत भजन
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...