Friday, July 01, 2016

भगवान मेरा जीवन


भगवान मेरा जीवन, संसार के लिए हो।
जिंदगी हो लेकिन, उपकार के लिए हो।।

मुझ में विवेक जागे, मैं धर्म को भूलूं,
चाहे मेरी गर्दन, तलवार के तले हो।
भगवान मेरा जीवन, संसार के लिए हो।
जिंदगी हो लेकिन, उपकार के लिए हो।।

सुंदर स्वभाव मेरा, दुश्मन के मन को भावे,
वह देखते ही कह दे, तुम प्यार के लिए हो।
भगवान मेरा जीवन, संसार के लिए हो।
जिंदगी हो लेकिन, उपकार के लिए हो।।

मन, बुद्धि और तन से, सब विश्व का भला हो,
चाहे मेरी नैया, मझधार के लिए हो।
भगवान मेरा जीवन, संसार के लिए हो।
जिंदगी हो लेकिन, उपकार के लिए हो।।


परेपरागत भजन
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...