Saturday, July 02, 2016

श्याम अपने दीवाने पर

श्याम अपने दीवाने पर एक कर्म कमा देना।
जिस दिन मैं तुझे भूलूं मुझे जग से उठा लेना।।

जिन्दा हूं मगर तेरी चौखट पे पड़ा हूंगा,
कभी नज़र पड़े तेरी, चरणों से लगा लेना।
श्याम अपने दीवाने पर एक कर्म कमा देना।
जिस दिन मैं तुझे भूलूं मुझे जग से उठा लेना।।

सपने में अगर मुझ में, अभिमान की बू आये,
तुझे कसम है राधा की, मेरा कंठ दबा देना।
श्याम अपने दीवाने पर एक कर्म कमा देना।
जिस दिन मैं तुझे भूलूं मुझे जग से उठा लेना।।

प्रभु दास हूं तेरा, मुझे दास ही रहना है,
प्रभु अपने गुलामों में, मेरा नाम लिखा देना।
श्याम अपने दीवाने पर एक कर्म कमा देना।
जिस दिन मैं तुझे भूलूं मुझे जग से उठा लेना।।

चाहता हूं मगर मेरी, चाहत भी तो ऐसी है,
कुछ दिल में दर्द देना, कुछ दर्दे दवा देना।
श्याम अपने दीवाने पर एक कर्म कमा देना।
जिस दिन मैं तुझे भूलूं मुझे जग से उठा लेना।।


परंपरागत भजन
Post a Comment

नाराजगी

हवाई अड्डे पर समय से बहुत पहले पहुंच गया। जहाज के उड़ने में समय था। दुकानों में रखे सामान देखने लगा। चाहिए तो कुछ ...