Monday, July 04, 2016

मुड़ कर


कभी यूं मुड़ कर देखिए
वो समय कितना हसीन है
वो यादें कितनी सुहानी हैं
मुस्कान लबों पर आ जाती है

आज यूं ही मुड़ कर देखा है
आज मौसम बहुत हसीन है
बादल काले सुहाने छाए हैं
दिल शायराना हुआ जा रहा है

यका-यक फुहार पड़ने लगी
तन की तपिश घटने लगी
मन की ख्वाहिश बढ़ने लगी

मुस्कान लबों पर आने लगी
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...