Monday, August 01, 2016

हो जाए मेरी विनती


हो जाए मेरी विनती, परवान तेरे दर ते
जनम कर देवां, मैं कुर्बान तेरे दर ते

किस्ती भी तू, चप्पू भी तू, तू ही है खेवन हारा,
मैनू डर नही दरिया दा, तू ही मेरा किनारा।
मैं जावां उस पार, इस संसार नू तर के
हो जाए मेरी विनती, परवान तेरे दर ते
जनम कर देवां, मैं कुर्बान तेरे दर ते

पापी भी हूं, कुकर्मी भी हूं, अंजान हूं दाता,
मैं जो कुछ भी हूं, तेरी संतान हूं दाता।
मैं आया अपनी भुल्लां, बकशान तेरे दर ते
हो जाए मेरी विनती, परवान तेरे दर ते
जनम कर देवां, मैं कुर्बान तेरे दर ते

सुनया मैं तेरे दर ते, दाता तक़दीर बदलदी,
एत्थे मत्थे दी लकीरां दी तासीर बदलदी।
मैं आया अपनी किस्मत अजमाने तेरे दर ते
हो जाए मेरी विनती, परवान तेरे दर ते
जनम कर देवां, मैं कुर्बान तेरे दर ते

तेरे दर ते दाता मैं, मुड़ मुड़ के आंदा हां,
एत्थे मत्थे दियां लकीरां दे, निशान मितानदा हां,
मैनू जनम जनम तक होवे पहचान तेरे दर दी।
हो जाए मेरी विनती, परवान तेरे दर ते
जनम कर देवां, मैं कुर्बान तेरे दर ते


परंपरागत भजन
Post a Comment

नाराजगी

हवाई अड्डे पर समय से बहुत पहले पहुंच गया। जहाज के उड़ने में समय था। दुकानों में रखे सामान देखने लगा। चाहिए तो कुछ ...