Friday, August 26, 2016

परेशान


चलता हूं कोई रोक लेता है
धक्का दे कर पीछे करने के लिए।

रुकता हूं कोई गिरा देता है
धक्का दे कर नीचे करने के लिए।

हर कोई कुछ करता है
दूसरे को तड़पाने के लिए।

हर कोई खुद परेशान रहता है
दूसरों को परेशान करने के लिए।


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...