Monday, October 10, 2016

कन्हैया को भूल न जाना

प्यारे भक्तों कन्हैया को भूल जाना।
गाओ-गाओ उसी का तराना, उसी का तराना।।

जो चाहो तुम भव से तरना, भव से तरना।
निश दिन हरी का सिमरन करना, सिमरन करना।।
भूलो दुःख सुख राम कहो।
श्याम प्यारे के चरणों में मन जगाना।।
गाओ-गाओ उसी का तराना, उसी का तराना।।

जो नर हरी का ध्यान धरेगा, ध्यान धरेगा।
मोह माया से दूर रहेगा, दूर रहेगा।
उसका है जीवन सफल, मिलेगा फल।
श्याम प्यारे की हरदम ही रट लगाना।।
गाओ-गाओ उसी का तराना, उसी का तराना।।

ऐसा प्यारा नाम कन्हैया, नाम कन्हैया।
पार लगावे डूबती नैया, डूबती नैया।।
नाम से ही विपता टरे जय कृष्ण हरे।
कृष्ण कह कह के अपना जीवन बिताना।।
गाओ-गाओ उसी का तराना, उसी का तराना।।



Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...