Wednesday, October 12, 2016

मांगा है मैंने श्याम से वरदान एक ही

मांगा है मैंने श्याम से वरदान एक ही।
तेरी कृपा बनी रहे जब तक है ज़िन्दगी।।

जिस पर प्रभु का हाथ था वह पार हो गया,
जो भी शरण में गया उद्धार हो गया,
जिसका भरोसा श्याम पर डूबा कभी नही।
मांगा है मैंने श्याम से वरदान एक ही।
तेरी कृपा बनी रहे जब तक है ज़िन्दगी।।

कोई समझ सका नही माया बड़ी अजीब,
जिसने प्रभु को पा लिया है वह खुशनसीब,
इसकी मर्जी के बिना पत्ता हिले नही।
मांगा है मैंने श्याम से वरदान एक ही।
तेरी कृपा बनी रहे जब तक है ज़िन्दगी।।

ऐसे दयालु श्याम से रिश्ता बनाइए,
मिलता रहेगा आपको जो कुछ भी चाहिए,
ऐसा करिश्मा होगा, जो हुआ कभी नही।
मांगा है मैंने श्याम से वरदान एक ही।
तेरी कृपा बनी रहे जब तक है ज़िन्दगी।।

कहते हैं लोग ज़िन्दगी किस्मत की बात है,
किस्मत बनाना भी मगर इनके ही हाथ है,
मोहन कर यकीन अब ज्यादा समय नही।
मांगा है मैंने श्याम से वरदान एक ही।
तेरी कृपा बनी रहे जब तक है ज़िन्दगी।।






Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...